फांसी पर Hanging के बाद भी जिंदा था रेप और हत्या का यह Guilty!

ranga billa

निर्भया मामले में अपराधियों को 20 मार्च की सुबह फांसी दी जाएगी. लेकिन हमारे देश में एक ऐसा भी मामला सामने आया है जिसमें Hanging देने के 2 घंटे बाद तक Guilty की मौत नहीं हुई थी. वह जिंदा था. जब जेल प्रशासन को कुछ समझ में नहीं आया तो उन्होंने अपनाया था हैरतअंगेज कदम. आइए जानते हैं इस Guilty के बारे में जिसने Hanging पर लटकने के 2 घंटे बाद भी दम नहीं तोड़ा था…

Guilty Hanging

ये बात 1978 की है. दिल्ली में एक भाई-बहन का अपहरण होता है. इसके बाद बहन के साथ रेप किया जाता है. फिर दोनों भाई-बहन को मौत के घाट उतार दिया जाता है. ये अपहरण किया था रंगा-बिल्ला ने. ये उस समय के कुख्यात अपराधी थे. इस मामले की जानकारी मिलने पर खुद उस समय के प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई परेशान हो गए थे.

Guilty Hanging

रंगा और बिल्ला ने 1978

में नौसेना के अधिकारी मदन चोपड़ा के बच्चे गीता और संजय चोपड़ा का अपहरण किया था. बाद में इन दोनों भाई-बहन की हत्या कर दी थी. रंगा का असली नाम कुलजीत सिंह और बिल्ला का असली नाम जसबीर सिंह था. जिस समय रंगा और बिल्ला ने गीता और संजय को मारा था, उस समय उनकी उम्र बेहद कम थी. गीता साढ़े 16 साल की थी और संजय की उम्र 14 वर्ष थी.

Ranga Billa

रंगा और बिल्ला ने नेवी अधिकारी मदन मोहन चोपड़ा के दोनों बच्चों गीता और संजय चोपड़ा को 26 अगस्त 1978 को फिरौती के लिए अपहरण किया था, लेकिन जब रंगा और बिल्ला को पता चला कि बच्चों के पिता नेवी के अधिकारी हैं तो दोनों बच्चों की हत्या कर दी गई.

Ranga

ये बात है करीब 37 साल पहले की यानी 31 जनवरी 1982 की. जब रंगा यानी कुलजीत सिंह और बिल्ला यानी जसबीर सिंह को फांसी दी जा रही थी. इसमें से एक अपराधी तो फांसी के बाद मर गया लेकिन दूसरा दो घंटे बाद भी जिंदा था. उसकी नाड़ी चल रही थी.

Guilty Hanging

मेडिकल साइंस

मेडिकल साइंस की बात मानें तो ऐसा तब हो सकता है जब आदमी के शरीर का वजन कम हो. या वो सांस रोकने में सक्षम हो. तिहाड़ जेल के पूर्व प्रवक्ता सुनील गुप्ता ने अपनी किताब ब्लैक वारंट में इस किस्से का जिक्र किया है.

Guilty Hanging

फांसी वाले दिन रंगा नहाया था. लेकिन बिल्ला नहीं. तत्कालीन जेल सुपरिटेंडेंट आर्यभूषण शुक्ल ने रुमाल गिराकर फांसी के लीवर को खींचने का इशारा किया. 2 घंटे बाद डॉक्टरों ने जांच की तो पता चला कि बिल्ला मर गया है. लेकिन रंगा की नाड़ी चल रही है.

Ranga Billa
Image src

जेल के डॉक्टरों ने जब रंगा की नाड़ी चलती देखी तो फिर जेल प्रशासन के किसी को फांसी के तख्ते के नीचे भेजकर रंगा के पैरों को दोबारा खींचने का आदेश दिया. रंगा के पैरों को खींचा गया. तब जाकर उसकी मौत हुई.

Like and Support us on Facebook